Connect with us

Study

Solar System in Hindi | सौरमंडल की पूरी जानकारी

Published

on

solar system in hindi

आज हम Solar System in Hindi Explain करने वाले हैं हम Solar System को बहुत ही गहराई से समझेंगे और इसके साथ-साथ Solar System के ग्रहों के बारे में भी बात करेंगे।

Hello दोस्तों हमें उम्मीद है कि आप सभी स्वस्थ और सुरक्षित होंगे और अपने घर में ही होंगे।

यहां पर हम Solar System Kya Hai? उसके बारे में जानेंगे और सौर मंडल में कौन-कौन से ग्रह हैं? उनके बारे में भी जानेंगे इसके साथ सौरमंडल से जुड़े कुछ रोचक और महत्वपूर्ण तथ्य जानेंगे जिसके बारे आपको प्रतियोगी परीक्षा में Question मिल सकता है। और आपका वह Question पढ़ा हुआ होगा तो आप घबराएंगे नहीं और जल्दी से जल्दी मैं प्रश्न हल कर देंगे, इसी कारण आज हम सौरमंडल के बारे में संपूर्ण ज्ञान आपको यहां पर हम देने वाले हैं।

सबसे पहले तो मैं आपको बता दूंगा कि आज भी सौरमंडल के बारे में नई-नई जानकारियां मिल रही है और बहुत सारे शोध सौरमंडल के ऊपर चल रहे हैं और अगर वह नई जानकारियां आपके Exam में आती हैं तो उनको हल करने के लिए आपको Current Affairs बहुत ही अच्छे से पढ़ना होगा।

इनमें से आप को मुख्य रूप से अंतरिक्ष और इससे जुड़ी जानकारियां Current Affairs में मिलेगी, तो आपको वह जानकारियां प्राप्त करने के लिए रोजाना करंट अफेयर्स के बारे में पढ़ना होगा और करंट टॉपिक्स पर अपना रुझान ज्यादा बनाना होगा।

सौर मंडल क्या है? Solar System in Hindi

यहां पर हम पूरे Solar System के बारे में जानेंगे और Solar System Kya Hai इस पर हिंदी में चर्चा करेंगे इसके साथ साथ Solar System के सदस्यों या यूं कहें सौर मंडल के सदस्यों तथा सौरमंडल के ग्रहों के बारे में भी हम विस्तार से चर्चा करेंगे।

सौर मंडल (Solar System in Hindi)

अगर हम सौर मंडल (Solar System in Hindi) के बारे में बात करें तो सौरमंडल में बहुत सारे ग्रह हैं उपस्थित हैं लेकिन वैज्ञानिकों को अभी सिर्फ आठ ही ग्रहों के बारे में जानकारी है और उन्हीं आठ ग्रहों की पूरी जानकारी निकालने में लगभग सभी देशों के वैज्ञानिक लगे हैं जैसे सबसे ज्यादा लोग मंगल ग्रह की जानकारी निकालने में लगे हैं।

अमेरिका और इंडिया दोनों देशों ने मंगल पर बहुत जटिलता से खोज जारी रख रखी है और हमें उम्मीद है कि आने वाले कुछ सालों में मंगल के बारे में हमें कुछ रोचक जरूर मिलेगा।

लेकिन आज हम सिर्फ आठ ही ग्रह जो सौरमंडल के अंदर उपस्थित हैं उनके बारे में चर्चा करने वाले हैं और सूर्य के बारे में भी हम विस्तार से चर्चा करेंगे तो चलिए हम सबसे पहले उन आठ ग्रहों और सूर्य के बारे में चर्चा करते हैं उसके बाद आपको सौरमंडल से जुड़े कुछ विशेष तथ्य बताएंगे।

सूर्य (Sun)

दोस्तों आप सभी सूर्य के बारे में तो जानते ही होंगे सूर्य से ही हमारे दिन की शुरुआत होती है और सूर्य के छपने के बाद ही हमारी रात होती है सौर मंडल का नाम सूर्य के आधार पर ही रखा गया है सौरमंडल में सबसे केंद्र में सूर्य है और बाकी सभी ग्रह सूर्य की परिक्रमा लगाते हैं जिसमें से एक ग्रह हमारी पृथ्वी भी है।

सूर्य के चारों ओर परिक्रमा लगाने तथा अपने अक्ष पर भी घूमने के कारण ही पृथ्वी पर दिन और रात होते हैं।

सूर्य पृथ्वी से लगभग 109 गुना बड़ा है और वैज्ञानिक यह अंदाजा लगाते हैं कि सूर्य एक भैंस या गोला है जिसमें मुख्य रुप से हाइड्रोजन जो कि 71% है और 26.5% हीलियम तथा 2.5% अन्य तत्व है।

सूर्य के मजबूत गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ही सभी ग्रह अपनी अक्षरों पर सूर्य की परिक्रमा कर पाते हैं।

जिस प्रकार सभी ग्रह सूर्य के चारों ओर परिक्रमा लगाते हैं उसी प्रकार सूरह भी आकाशगंगा के चारों ओर परिक्रमा लगाता है और सूर्य को आकाशगंगा के चारों ओर एक परिक्रमा को पूर्ण करने में 20 से 25 करोड़ वर्ष लग जाते हैं।

सूर्य का कुल व्यास 1392000 किलोमीटर है।

बुध (Mercury)

बुध ग्रह सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह है इस ग्रह के पास कोई भी उपग्रह नहीं है यह छोटा होने के साथ-साथ सूर्य के सबसे नजदीक ग्रह है इस ग्रह को सूर्य की परिक्रमा पूरी करने में दूसरे ग्रहों की तुलना में सबसे कम 88 दिन लगते हैं।

  • बुध ग्रह, सूर्य से लगभग 57,910,000 किलोमीटर दूर है।
  • दिन का तापमान 427 डिग्री सेंटीग्रेड तथा रात का तापमान -173 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है।
  • यहाँ दिन अत्यधिक गर्म और रातें अत्यधिक बर्फीली होती है।
  • बुध पर हाइड्रोजन और हीलियम अत्यधिक मात्रा में है।

शुक्र (Venus)

शुक्र (Venus) ग्रह का सौरमंडल में दूसरा स्थान है यह पृथ्वी का सबसे निकटतम ग्रह है और सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह भी शुक्र को ही कहा जाता है और इस ग्रह को सांझ का तारा तथा भोर का तारा भी कहा जाता है जिस प्रकार बुध ग्रह को खुली आंखों से देखा जा सकता है उसी प्रकार शुक्र को भी खुली आंखों से देखा जा सकता है सबसे ज्यादा कार्बन डाइऑक्साइड गैस की मात्रा शुक्र ग्रह पर होती है और वैज्ञानिकों द्वारा बताया जाता है कि इस ग्रह पर सबसे ज्यादा सक्रिय ज्वालामुखी है।

  • शुक्र ग्रह की सूर्य से दूरी लगभग 108,200,000 किलोमीटर है।
  • शुक्र का व्यास 12,104 किलोमीटर है।
  • शुक्र ग्रह का तापमान 462 डिग्री सेंटीग्रेड तक पहुंच जाता है।

पृथ्वी (Earth)

पृथ्वी ग्रह के बारे में तो आप सभी लोग जानते होंगे हम जिस पर ग्रह पर रहते हैं उसका नाम पृथ्वी है, यह सौरमंडल का तीसरा ग्रह है जो सूर्य के निकट है अभी तक पृथ्वी एक मात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन संभव है।

पृथ्वी का एक उपग्रह है जिसका नाम चंद्रमा है, तथा पृथ्वी का अधिकतम तापमान 56.76 डिग्री सेंटीग्रेड तथा न्यूनतम माइनस 89 डिग्री सेंटीग्रेड है।

  • सूर्य की परिक्रमा पृथ्वी 365 दिनों में पूरा करती है।
  • पृथ्वी का व्यास लगभग 12742 किलोमीटर है।
  • पृथ्वी अपनी कक्षा में 23.5 डिग्री में झुकी है।
  • पृथ्वी से सूर्य की दूरी 149,600,00 किलोमीटर है।

मंगल (Mars)

मंगल ग्रह को लाल ग्रह के नाम से भी जाना जाता है और वैज्ञानिकों द्वारा कहा जाता है कि इसका यह लाल रंग आयरन ऑक्साइड के कारण है मंगल ग्रह खुद की अपने अक्ष पर परिक्रमा पूरी करने के लिए 24 घंटे 6 मिनट लेता है सौरमंडल का सबसे बड़ा ज्वालामुखी जिसका नाम ओन्ली पर्स में से तथा सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत जिसका नाम निक्स ओलंपिया है इसी ग्रह पर स्थित है इस ग्रह का अधिकतम तापमान 130 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान माइनस 50 डिग्री सेल्सियस होता है।

  • मंगल (Mars) ग्रह की दूरी सूर्य से 227,900,000 किलोमीटर है।
  • मंगल (Mars) का कुल व्यास 6,779 किलोमीटर है।

वृहस्पति (Jupitar)

बृहस्पति ग्रह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है इस ग्रह को सूर्य की परिक्रमा पूरी करने में लगभग 11.9 वर्ष लगते हैं और खुद की परिक्रमा पूरी करने में 9.9 घंटे लगते हैं।

यह ग्रह पीले रंग का है और इसके 79 उपग्रह हैं जिनमें से सबसे प्रमुख उपग्रह का नाम ज्ञानी मीट है।

बृहस्पति ग्रह पर सबसे ज्यादा कैसे पाए जाने के कारण इसे गैसों का गोला भी कहा जाता है बृहस्पति ग्रह का औसत तापमान -108 डिग्री सेल्सियस है।

  • बृहस्पति ग्रह की दूरी सूर्य से लगभग 778,500,000 किलोमीटर है।
  • बृहस्पति ग्रह का व्यास 139,820 किलोमीटर है।
  •  इस ग्रह पर 71% हाइड्रोजन, 24% हिलियम, 5% अन्य गैसे हैं।

शनि (Saturn)

शनि ग्रह आकार में सौरमंडल का सबसे दूसरा बड़ा ग्रह है शनि ग्रह देखने में ग्रहों से बहुत अलग लगता है मतलब इसके चारों ओर एक वलय की आकृति पाई जाती है इस वलय में 7 संख्या है इस शनि की विशेषता बढ़ती है।

शनि के सबसे बड़े उपग्रह का नाम टाइटन है तथा टाइटन की को 1665 ईस्वी में डेनमार्क के खगोल शास्त्री क्रिश्चियन हाइजोन ने की थी।

  • शनि ग्रह सूर्य से लगभग 143 करोड़ किलोमीटर दूर है।
  • शनि ग्रह का कुल व्यास 116,460 किलोमीटर है।
  • शनि ग्रह में 96% हाइड्रोजन, 3% हिलियम बाकी 1% में अन्य गैसे पाए जाती हैं।

अरुण (Uranus)

यह ग्रह सौरमंडल का आकार में तीसरा बड़ा ग्रह है अरुण ग्रह सूर्य की परिक्रमा पूरी करने में लगभग 84 वर्ष लेता है तथा समय की परिक्रमा 17 घंटे 14 मिनट में पूरी करता है इस ग्रह पर भी अन्य ग्रहों की तरह कैसे मौजूद हैं जिनमें हाइड्रोजन 83% तक हिलियम 15% तथा मीथेन 2.3 प्रतिशत है वरुण ग्रह अपनी धुरी पर सूर्य की ओर सबसे ज्यादा झुका हुआ है।

अपनी धुरी पर ज्यादा झुके हुए होने के कारण इसे लेटा हुआ ग्रह भी कहते हैं। अरुण ग्रह के 27 उपग्रह हैं, इसके सबसे बड़े उपग्रह का नाम टाइटेनिया है।

  • अरुण ग्रह का कुल व्यास लगभग 51,118 किलोमीटर है।
  • अरुण ग्रह सूर्य से लगभग 300,6,58,000 किलोमीटर दूर है।

वरुण (Neptune)

वरुण ग्रह हमारे सौरमंडल का सबसे आखिरी ग्रह है इसके बाद भी सौरमंडल में बहुत सारे ग्रह हैं लेकिन अभी तक वह ग्रह खोजे नहीं गई हैं या वैज्ञानिकों को अभी उसके बारे में जानकारी नहीं है लेकिन वह इसके बारे में जरूर पुष्टि करते हैं कि सौरमंडल में अभी और भी गृह हैं।

वरुण के तेरा उपग्रह है तथा इस ग्रह के अंदर 80% हाइड्रोजन 19% हिलियम तथा 1% मिथेन उपलब्ध है।

  • वरुण ग्रह सूर्य से लगभग 439,83,96,44 किलोमीटर दूर है।
  • वरुण ग्रह को सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करने में 164.8 वर्ष लगते हैं
  • वरुण स्वयं की एक परिक्रमा पूरी करने में 16.1 घंटे लगते हैं।
  • इस ग्रह का औसतन तापमान -201 डिग्री सेल्सियस है।

सौरमंडल के बारे में रोचक तथ्य (Solar System Facts)

  1. बृहस्पति ग्रह का मुख्य उपग्रह Ganymede है जिसका आकार बुद्ध से भी बड़ा है।
  2. शनि का एक उपग्रह है Hyperion, जिसका घनत्व बहुत ही कम है उसका घनत्व इतना कम है कि वह पानी में भी तेर सकता है।
  3. सौरमंडल से जुड़ा एक रोचक तथ्य यह है कि भारत और अमेरिका के वैज्ञानिक मंगल पर जीवन की तलाश कर रहे हैं और जल्दी ही हो सकता है कि इंसान मंगल पर रह सकें।
  4. शनि के चारों ओर बनी वलय शनि को सभी ग्रहों से अलग बनाती हैं।
  5. कुछ समय पहले सौरमंडल में नौ ग्रह थे नव वा ग्रह का नाम Pluto या यम था और उसे सौर मंडल से बाहर निकाल दिया गया, उसकी स्थिति वही है, लेकिन उसकी कक्षा सौरमंडल के हिसाब से नहीं थी इसीलिए उसे सौरमंडल में नहीं गिना जाने लगा।

हमें उम्मीद है कि अब आपको Solar System in Hindi समझ आ गया होगा और आपने बहुत ही गहराई से Solar System के बारे में जानकारी प्राप्त की होगी और सौरमंडल के बारे में कुछ रोचक तथ्य भी जान लिया होंगे।

Join StudyGovtJobs Telegram
Notes – Telegram Channel
REET Notes – Telegram Channel

अगर आप इसी प्रकार की जानकारी सबसे पहले प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे Telegram Channel को Join जरूर कीजिए और आप कोई प्रतियोगी परीक्षा के लिए Notes प्राप्त करना चाहते हैं तो भी आप हमारे Telegram Channel को Join कर सकते हैं।

Trending