Connect with us

Latest

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी के एग्जाम होंगे?

Published

on

आज हम महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी के बारे में बात करने वाले हैं और उसके बारे में हम जानेंगे कि बीए बीएससी बीकॉम आदि के एग्जाम होंगे या नहीं।

जैसे की आप सभी को पता है कि आरबीएसई कक्षा 10 और कक्षा 12 की परीक्षाएं रद्द हो चुकी है और सीबीएसई के भी कक्षा 12 और कक्षा 10 की परीक्षाएं रद्द हो चुके हैं लेकिन अभी तक महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी से कोई भी सूचना नहीं मिली है कि विद्यार्थियों के एग्जाम कब होंगे और किस प्रकार होंगे।

बहुत सारे लोग इसके अंदर अंदाजे लगा रहे हैं कि महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी के एग्जाम अगस्त माह में होंगे और कुछ लोग कह रहे हैं कि महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी के एग्जाम नहीं होंगे अगर हम यूजी की बात करें जिसमें बीए बीकॉम बीएससी बीसीए आदि हैं इनमें प्रथम एवं द्वितीय वर्ष के परीक्षाएं करवाना मुश्किल है लेकिन अंतिम वर्ष की परीक्षाएं होने की पूरी पूरी आशंका है इसके साथ-साथ बहुत सारी खबरें निकल कर आ रही है कि प्रथम एवं द्वितीय वर्ष को इस वर्ष भी प्रमोट किया जाएगा।

कुछ खबरों के हिसाब से महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी और राजस्थान की सभी यूनिवर्सिटी इस बात से चिंतित है की इस वर्ष कक्षा 12 को बिना परीक्षा के प्रमोट किया गया है और जब वह अपनी आगे की डिग्री के लिए एडमिशन लेंगे तो उन्हें किस प्रकार एडमिशन दिया जाएगा और इसकी क्या प्रोसेस रहेगी और अभी तक कक्षा 12 के रिजल्ट की भी कोई घोषणा नहीं हुई है और यह भी तय नहीं हुआ है कि कक्षा 12 और कक्षा 10 का इस प्रकार रिजल्ट निकाला जाएगा।

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी कि अभी कोई भी ऑफिशियल खबर नहीं है कि कक्षा प्रथम और द्वितीय को प्रमोट किया जाएगा या नहीं लेकिन बहुत सारे न्यूज़ चैनल जैसे जी न्यूज़ जी राजस्थान आदि ने अपनी खबरों में मुख्य रूप से कहा है कि प्रथम एवं द्वितीय वर्ष को आगे की कक्षाओं में प्रमोट किया जाएगा लेकिन अंतिम वर्ष की परीक्षाएं ली जाएगी लेकिन अंतिम वर्ष की परीक्षा लेने में भी कुछ फेरबदल की गई है जैसे अंतिम वर्ष की परीक्षा केवल एक घंटा 30 मिनट की ही होगी जिसमें उन्हें सिर्फ तीन सवालों के जवाब देना अनिवार्य होगा।

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी को क्या फैसला लेना चाहिए यह तो हम नहीं कह सकते लेकिन जो भी महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी फैसला लेगी वह हमें मान्य होगा।

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी जो भी फैसला लेगी हमें पूरी पूरी उम्मीद है कि वह छात्रों और सरकार के हित में ही होगा क्योंकि आज कोरोना की स्थिति इतनी बढ़ गई है कि इसे संभालना मुश्किल हो रहा है और इस समय राजस्थान की युवा पीढ़ी को बचाना बहुत आवश्यक है लेकिन उनके भविष्य को भी ध्यान में रखना चाहिए।

मेरे हिसाब से राजस्थान यूनिवर्सिटी और महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी को ऐसा फैसला लेना चाहिए जिससे छात्र-छात्राओं को कोरोना से कोई खतरा भी ना हो और उनके भविष्य को भी कोई खतरा ना हो जिससे उनका भविष्य बचा रहे और कोरोना के कारण भी उन्हें परेशानी न झेलनी पड़े इसका अभी तो एकमात्र उपाय प्रथम एवं द्वितीय वर्ग को प्रमोट कर कर अंतिम वर्ष की परीक्षा जिसमें पूरी सावधानी बरतकर काम करना ही है।

धन्यवाद।।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending